Breaking News

चिन्मयानंद ने तोगड़‍िया को बताया अपरिच‍ित, कहा- नहीं करेंगे चर्चा

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इलाहाबाद में होंगे, जहां वह माघ मेले में संतों को सम्मानित करने के पुरानी परंपरा को एक बार फिर शुरू करेंगे. राजा-रजवाडे़ के वक्त माघ मेले के दौरान संतों को सम्मानित करने की परंपरा थी, जिसे योगी फिर से जीवंत बनाएंगे.

लेकिन इस सम्मान समारोह से विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण भाई तोगड़िया दूर ही रहेंगे. वीएचपी ने तो यहां तक कह दिया है कि इस समारोह में तोगड़‍िया पर ना तो कोई चर्चा होगी, ना ही कोई इस बारे में बात करेगा. यहां तक कि VHP ने तोगड़‍िया को अपरिचित शख्स बता दिया है.

दरअसल, विश्व हिंदू परिषद का मार्गदर्शक मंडल ये संत समागम आयोजित कर रहा है, जिसमें योगी आएंगे और अलग-अलग अखाड़ों से जुड़े संतों को सम्मानित करेंगे. विश्व हिंदू परिषद ये कार्यक्रम आयोजित कर रहा है, जिसमें धर्म संस्कृति और राष्ट्रवाद के एजेंडा पर काम करने के लिए संत समाज मुख्यमंत्री योगी को भी धन्यवाद देगा.

राम मंदिर और गंगा पर होगी चर्चा

विश्व हिंदू परिषद के इस कार्यक्रम में राम मंदिर पर चर्चा तो हो सकती है, लेकिन राममंदिर पर न तो कोई प्रस्ताव आएगा और ना ही कोई प्रस्ताव पास होगा. सिर्फ राममंदिर ही नहीं बल्कि गाय और गंगा पर भी कोई प्रस्ताव नहीं होगा.

अपरिचित हुए तोगड़िया

पूर्व गृह राज्य मंत्री और वीएचपी मार्गदर्शक मंडल के सदस्य चिन्मयानंद ने कहा तोगड़िया का मामला विश्व हिंदू परिषद का आंतरिक मामला है. लेकिन प्रवीण तोगड़िया विश्व हिंदू परिषद के लिए अपरिचित शख्स हो चुके हैं. ऐसे में तोगड़िया पर इस कार्यक्रम में चर्चा तक नहीं होगी.

योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में जिस तरीके से साधू संतों के एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं, उसे देखते हुए फिलहाल राम राममंदिर या गंगा को लेकर संत सरकार से सवाल पूछने के मूड में नहीं दिख रहे. अब सब निगाहें फरवरी में शुरू हो रही राम मंदिर की सुनवाई पर टिक गई है.

via Manju Raj Patrika

No comments