Breaking News

देश की राजधानी दिल्ली में एक शख्स ने अवैध संबंध के शक में अपनी पत्नी को मौत के घाट उतार दिया

देश की राजधानी दिल्ली में एक शख्स ने अवैध संबंध के शक में अपनी पत्नी को मौत के घाट उतार दिया। पत्नी की निर्मम हत्या के बाद वह रात भर उसकी लाश के पास सोया। बाद में उसने अपने छोटे बेटे को भी मार डाला, सिर्फ इस शक में कि वह उसका सगा बेटा नहीं था। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से भाग निकला। अगली सुबह लाशें देखकर घरवालों को मामले की जानकारी हुई तो उन्होंने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी, जिसके बाद जांच-पड़ताल में बड़े बेटे ने वारदात का राजफाश किया। पीड़ित पक्ष ने आरोपी के खिलाफ शिकायत दे दी है, पुलिस उसी के आधार पर उसकी खोजबीन में जुटी हुई है। यह घटना जहांगीरपुरी इलाके की है। मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आगरा निवासी ओमप्रकाश यहां जी-ब्लॉक में पत्नी शोभा (32) और तीन बेटों- राहुल (आठ), सुशांत (छह) और करन (दो) के साथ रहता था। सोमवार रात खाने के बाद वे लोग घर के पहले माले पर सोने गए थे, जबकि बाकी लोग नीचे ही थे। अगली सुबह जब शोभा देर तक नहीं आई तो देवर को शक हुआ। वह ऊपर गया, जहां खून से सनी लाशें देखकर वह भौंचक्क था। जानकारी पर पुलिस पहुंची, तो पता लगा कि दोनों का गला रेता गया था। शोभा के सिर पर हथौड़े से किए गए हमले के निशान भी थे। दोनों को अस्पताल ले जाया गया, मगर डॉक्टरों ने उन्हें मृत बताया।

पुलिस जांच में पता लगा कि वारदात के वक्त बड़ा बेटा राहुल सोया नहीं था। उसके अनुसार, “मां सो रही थी, तब पापा ने उनका मुंह दबा दिया था। फिर चाकू से गाल काटा। सिर पर हथौड़ा मारा। बाद में करन को भी मार दिया।” आरोपी शख्स इसके बाद वहीं लाशों के पास बैठा रहा था। थोड़ी देर बाद वह वहीं सो भी गया था। ये वारदात रात में तकरीबन 11 बजे के आसपास की है।

परिजन के अनुसार, 13 साल पहले ओमप्रकाश और शोभा की शादी हुई थी। शादी के पांच साल तक तो वह पिता के घर में रहा, मगर थोड़े दिन बाद वह अलग रहने लगा। वहीं, पत्नी मायके चली गई थी। आरोपी पुताई का काम करता था और थोड़ा झगड़ालू भी था। पुलिस ने आगे बताया कि आरोपी को शक था कि करन उसका सगा बेटा नहीं है। यही कारण था कि उसका पत्नी से विवाद होता था। शराब के नशे में वह अक्सर इसी मसले पर पत्नी से लड़ाई-झगड़ा भी करता था। पुलिस ने इस बाबत आरोपी के दोनों भाइयों को हिरासत में लिया है।

via Manju Raj Patrika

No comments