श्री सिद्धदाता आश्रम में ब्रह्मोत्सव के अंतिम दिन हजारों भक्तों ने की भागीदारी

फरीदाबाद।श्री सिद्धदाता आश्रम में पांच दिवसीय ब्रह्मोत्सव आज संपन्न हो गया। इस अवसर पर भक्तों को दर्शन देने स्वयं भगवान नारायण गर्भगृह से बाहर निकले। जिनके साथ हजारों भक्त नाचते गाते झूमते शोभायात्रा के रूप में शामिल हुए।

श्री सिद्धदाता आश्रम में पांच दिन से चल रहे ब्रह्मोत्सव के अंतिम दिन श्री लक्ष्मीनारायण दिव्यधाम के सभी मंडपों में स्थापित देव विग्रहों की उत्सव मूर्तियों के साथ शोभायात्रा निकाली गई। इस अवसर पर अधिष्ठाता श्रीमद् जगद्गुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज के सान्निध्य में भक्तों ने खूब आनन्द लिया। स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने सभी को प्रसाद एवं आशीर्वाद प्रदान किया। उन्होंने अपने प्रवचन में कहा कि जहां भगवान के नाम की चर्चा होती है वहां भगवान की कृपा भी होती है और इस कृपा को पाने के लिए देवता गण भी मौजूद रहते हैं। लेकिन देवताओं को भी इस चर्चा को सुनने के लिए सशरीर बैठने का सौभाग्य प्राप्त नहीं है जबकि मानव को यह अवसर प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि आचार्यों की कृपा से हमें भगवान के नाम सिमरण का अवसर मिलता है जिसे हमें नहीं गंवाना चाहिए। उन्होंने सुंदर और व्यवस्थित आयोजन में भागीदारी करने पर सभी कार्यकर्ताओं एवं भक्तों को शुभाशीर्वाद प्रदान किया। आयोजन में श्रीधाम वृंदावन से आए खटलेश स्वामी श्री रामेश्वराचार्य जी महाराज और आरा जिला बिहार से आए श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री ज्योतिनारायणाचार्य भी प्रमुखता से मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि श्री सिद्धदाता आश्रम दिव्य स्थान है और यहां से कोई खाली हाथ नहीं जाता। यहां अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने भी लोगों का मन मोह लिया। देर रात तक चले कार्यक्रम में हजारों भक्तों ने भागीदारी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *