चिंता ना करें - भारत में आरोग्य सेतु सबसे सुरक्षित ऐप - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Wednesday, May 20, 2020

चिंता ना करें - भारत में आरोग्य सेतु सबसे सुरक्षित ऐप


नई दिल्ली । कोरोना संक्रमण के प्रसार को ट्रेस करने में अहम रोल निभा रहे भारत के आरोग्य सेतु से गोपनीयता संबंधी चिंताओं को खारिज करते हुए , माय जीओवी के सीईओ अभिषेक सिंह ने इसे उन सभी ऐप्स की तुलना में सबसे सुरक्षित बताया है जो वर्तमान में भारतीयों द्वारा उपयोग किए जा रहे हैं।

माय जीओवी ने आरोग्य सेतु ऐप विकसित किया है और अप्रैल में इसे लॉन्च किया।

सिंह ने मंगलवार को एक वीडियो साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया, "भारत में उपयोग हो रहे किसी अन्य ऐप में इतने सिक्योरिटी फीचर्स नहीं हैं, जितने अरोग्य सेतु ऐप में हैं। आलोचकों का हम स्वागत करते हैं लेकिन हम जो करते हैं वह भारत के लोगों के सर्वोत्तम हित में होता है।"

एक फ्रांसीसी सुरक्षा शोधकर्ता बैप्टिस्ट रॉबर्ट ने 6 मई के मीडियम ब्लॉग पोस्ट में कहा कि वह अपने स्थान को बदलने और संक्रमित उपयोगकतार्ओं के स्थान को जूम इन करने में सक्षम थे।

माय जीओवी ने रॉबर्ट की सुरक्षा चिंताओं पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रश्नोत्तर श्रेणी में गोपनीयता के विवरण को विस्तार से लिखा। उदाहरण के लिए, 11 मई को जब आरोग्य सेतु के 98.5 मिलियन डाउनलोड हुए तो पता चला कि इनमें से "केवल 0.013 प्रतिशत" लोगों के डेटा को ही सर्वर पर अपलोड किया गया था, जिनकी ब्लूटूथ संपर्कों के जरिए पहचान सकें और उन्हें सचेत कर सकें।

आईएएनएस के लिए सिंह की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब भारत में संपर्क ट्रेसिंग के लिए किए जा रहे प्रयास में इस ऐप को देश में 107 मिलियन यानि कि 10.7 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है, जबकि देश में लगभग 500 मिलियन यानि कि 50 करोड़ स्मार्टफोन उपयोगकर्ता हैं।

सिंह ने कहा कि आरोग्य सेतु ऐप हॉटस्पॉट को बिना ऐप के जरिए चिन्हित करने में "सात दिन तेज" है।

बता दें कि आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोविड 19 के मामलों ने 1,00,000 का निशान पार कर लिया है, वहीं 3,300 से अधिक लोग इस वायरस से मर चुके हैं।

--आईएएनएस

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें