सुप्रीम कोर्ट ने सीएए के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Thursday, May 21, 2020

सुप्रीम कोर्ट ने सीएए के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस


नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 (सीएए) को लेकर केंद्र सरकार को पांच ताजा याचिकाओं पर नोटिस जारी किया है, जिसमें विभिन्न आधार पर सीएए की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है। सीएए को 10 जनवरी को अधिसूचित किया गया था। इस कामून में यह अधिकार दिए गए हैं कि जो अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यक उत्पीड़न के बाद 31 दिसंबर, 2014 तक भारत चले आए हैं, उन्हें यहां की नागरिकता दे दी जाएगी।

प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे, न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की खंडपीठ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित सुनवाई में तमिलनाडु तौहीद जमात, शालीम, ऑल असम लॉ स्टूडेंट्स यूनियन, मुस्लिम स्टूडेंट्स फेडरेशन (असम) और सचिन यादव द्वारा दायर याचिकाओं पर नोटिस जारी किया।

अदालत ने इस मुद्दे पर दायर जनहित याचिकाओं के पहले बैच के साथ इसे नत्थी करने का आदेश भी दिया।

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) प्रमुख याचिकाकर्ता है। पिछले साल दिसंबर में शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह सीएए की संवैधानिक वैधता की जांच करेगी, लेकिन अदालत ने कानून के संचालन पर रोक से इनकार कर दिया था। सीएए के खिलाफ लगभग 160 याचिकाएं दायर की गई हैं।

एक याचिका में कहा गया है कि यह सीएए की घोषणा के संबंध में महत्वपूर्ण सवाल उठा रहा है, जहां पहली बार धर्म को तीन पड़ोसी देशों के अनिर्दिष्ट प्रवासियों के लिए भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए एक शर्त के रूप में पेश किया गया है।

दलील दी गई कि व्यक्ति की धार्मिक पहचान के आधार पर वर्गीकरण धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांत के खिलाफ है, जो संविधान का एक अभिन्न अंग है।

--आईएएनएस

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें