चित्तौड़गढ़ में कोरोना से मृत वृद्ध के शव के दाह संस्कार का किया विरोध, आधी रात तक शव को इधर उधर लेकर घूमता रहा प्रशासन - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Saturday, May 23, 2020

चित्तौड़गढ़ में कोरोना से मृत वृद्ध के शव के दाह संस्कार का किया विरोध, आधी रात तक शव को इधर उधर लेकर घूमता रहा प्रशासन


चित्तौड़गढ़। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में शुक्रवार को मृत एक कोरोना मरीज की मौत के बाद दाह संस्कार पर विवाद उत्पन्न हो गया और प्रशासन आधी रात तक उसके शव को इधर से उधर लेकर घूमता रहा।

जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम के एक 80 वर्षीय व्यक्ति की शुक्रवार शाम कोरोना संक्रमण के कारण जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो जाने के बाद प्रशासन उसके शव को दाह संस्कार के लिए रात आठ बजे शहर के कुम्भानगर मोक्ष धाम लेकर आया लेकिन यहां पर क्षेत्र वासियों ने दाह संस्कार का विरोध शुरू कर दिया। देखते ही देखते वहां सैकडों की भीड़ एकत्र हो गई जिससे टकराव के हालात उत्पन्न हो गए।

सूचना मिलने पर अतिरिक्त कलेक्टर मुकेश कलाल, उपखण्ड अधिकारी अंशुल आमेरिया, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सरितासिंह आदि मौके पर पहुंचे और लोगों से समझाईश की लेकिन बात नहीं बनी। करीब दो घंटे तक की जद्दोजहद के बाद भी लोग विरोध पर ही अड़े रहे और अंततः रात दस बजे प्रशासन शव को लेकर एराल गांव पहुंचा जहां पर कर्फ्यू के बीच आधी रात को उसका दाह संस्कार कर दिया गया।



अतिरिक्त जिला कलेक्टर मुकेश कलाल ने बताया कि लोगों के मन में जीते जी और मरने के बाद भी कोरोना को लेकर कई भ्रांतिया है जिनमें एक यह भी है कि दाह संस्कार के धुएं से भी संक्रमण फैलता है जबकि सच्चाई इसके विपरीत है कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति के दाह संस्कार से वायरस पूरी तरह नष्ट हो जाता है और धुंए से कोई संक्रमण नहीं फैलता है।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें