कोरोना वायरस : आज से शुरू हुआ अनलॉक 1 का दूसरा चरण, मंदिर-मॉल-रेस्तरां खुले, इन बातों का ध्यान रखना जरूरी - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Monday, June 8, 2020

कोरोना वायरस : आज से शुरू हुआ अनलॉक 1 का दूसरा चरण, मंदिर-मॉल-रेस्तरां खुले, इन बातों का ध्यान रखना जरूरी

Corona virus: second phase of unlock 1 started today, temple-mall-restaurant open, it is important to keep these things in mind - Delhi News in Hindi
नई दिल्ली। हमारे देश में कोरोना वायरस तेजी से पाव पसार रहा है और अब रोजाना औसतन दस हजार नए मामले सामने आ रहे हैं। इसके बावजूद आज से देश में अनलॉक वन के दूसरे फेज की शुरुआत हो रही है। 1 जून को भारत सरकार ने अनलॉक 1.0 की शुरुआत की थी। जिसका दूसरा फेज आज से खुल रहा है। सोमवार से देश में धार्मिक स्थल, रेस्तरां और मॉल खुलने की इजाजत होगी, लेकिन कई तरह की पाबंदियां होंगी।

धार्मिक स्थल में प्रवेश के लिए 10 नियमों का पालन करना जरूरी होगा

(1) लोग एक दूसरे को छू न सकें इसके लिए मंदिरों में किसी भी तरह के प्रसाद वितरण पर रोक होगी।

(2) मंदिर में पुजारियों को भक्तों के ऊपर पवित्र जल का छिड़काव वर्जित किया गया है। इसके अलावा भक्तों को मंदिर में पानी आदि चढ़ाने भी मना किया गया है।

(3) मंदिर के रसोईघरों, लंगरों और अन्न-दान आदि के दौरान सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन जरूरी है। भक्तों के बीच खाने-पीने की चीजें बांटते समय या खाना खिलाते समय सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन जरूरी है।

(4) मंदिर में खांसी, बुखार, जुकाम जैसे लक्षणों वाले लोगों को मंदिर परिसर में जाने की अनुमति नहीं होगी।

(5) फेस सील्ड या मास्क पहनकर ही भक्त मंदिर में जा पाएंगे।

(6) मंदिर में भीड एकत्र न हो इसके लिए कहा गया है कि भक्तों को एक-एककर घुसने की अनुमति दी जाये।

(7) यदि संभव हो तो श्रदालु अपने जूते अपनी गाड़ी में ही छोड़कर मंदिर में प्रवेश करें।

(8) परिसर में प्रवेश करने से पहले साबुन और पानी से हाथ और पैर धोने के लिए कतार में लगते समय कम से कम 6 फीट की दूरी बनाएं रखें।

(9) मंदिर परिसर में थूकना सख्त वर्जित किया गया है।

(10) मंदिर में भीड एकत्र न हो इसके लिए कहा गया है कि भक्तों को एक-एककर घुसने की अनुमति दी जाये।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें