पंजाब में कोविड के फैलाव को रोकने के लिए दिल्ली से आने वालों की सख्त जांच होगी- #भारत_मीडिया #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

मुख्य समाचार

पंजाब में कोविड के फैलाव को रोकने के लिए दिल्ली से आने वालों की सख्त जांच होगी- #भारत_मीडिया #Bharat_Media

There will be strict investigation of those coming from Delhi to stop the spread of covid. - Punjab-Chandigarh News in Hindi
चंडीगढ़ । पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बाहरी राज्यों खासकर दिल्ली से राज्य में दाखिल होने वालों की कड़ी जांच करने के लिए कहा क्योंकि दिल्ली में स्थिति काबू से बाहर है।
मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि दिल्ली के अस्पताल की सिफारिश पर यहाँ बैड आरक्षित करवाने के उपरांत पंजाबियों का कोविड के इलाज के लिए दिल्ली से पंजाब आने पर स्वागत है।
दूसरे राज्यों के साथ लगती पंजाब की सरहदों को सील करने के मुद्दे पर कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि चाहे राजस्थान और हिमाचल प्रदेश ने पंजाब के साथ लगते अपने बाॅर्डर सील कर दिए हैं परन्तु हरियाणा और दिल्ली से रोजमर्रा की बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं। अकेले शुक्रवार ही दिल्ली और हरियाणा से 6500 वाहन पंजाब में दाखिल हुए हैं जिससे एक दिन में 20,000 नये लोग पंजाब आ रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पाॅजिटिव मामलों की बढ़ रही संख्या को देखते हुए उनकी सरकार राज्य में दाखिल होने के नियमों को और कड़ा करने पर विचार कर रही है। उन्होंने बताया कि पंजाब में कुल 2986 मामलों में से 1471 मामलों में बाहरी लोगों और उनके संपर्क को ढूँढा जा सकता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे राज्य मुल्क के दूसरे राज्यों की तुलना में अच्छा कर रहा है परन्तु पंजाब में बदल रही परिस्थितियों के मद्देनजर कड़े कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कोई भी बन्दिशें पसंद नहीं करता परन्तु लोगों का जीवन बचाने की खातिर उनको हफ्ते के अंतिम वाले दिन और छुट्टी वाले दिन मजबूरन रोक लगानी पड़ीं। उन्होंने बताया कि इन दिनों में अंतर-राज्यीय यातायात पर बन्दिशें भी अनावश्यक सामाजिक मेल-जोल को रोकने के लिए लगाईं गई हैं।
राज्य में एक दिन में 117 केस बढ़ने का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने राज्य में लोगों की आमद में बड़ा विस्तार होने का कारण बताया। उन्होंने कहा कि केवल एक महीने में लगभग 43000 लोग राज्य में आए हैं। उन्होंने बताया कि दुबई और दूसरे स्थानों से लोगों के अमृतसर पहुँचने के अलावा रेल गाड़ीयों का सफर भी इस ऐतिहासिक शहर में आकर खत्म होने से लोगों की संख्या में विस्तार होता है। उन्होंने कहा कि तीन शहरों अमृतसर, जालंधर और लुधियाना में अधिक केस देखे गए हैं। उन्होंने कहा कि पठानकोट, पटियाला और गुरदासपुर जैसे बाकी जिलों में भी कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए बन्दिशें लगानी जरूरी हैं।
मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य में टेस्टिंग बढ़ने के कारण और केस रिकाॅर्ड किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार टैस्टों की संख्या बढ़ाकर एक दिन में 20,000 करने के लिए आधुनिक मशीनों की खरीद करने की प्रक्रिया अधीन है। उन्होंने बताया कि अब तक 165000 टैस्ट किये जा चुके हैं। उन्होंने स्वास्थ्य माहिरों की सलाह का जिक्र करते हुए बताया कि इस समय कोविड के विरुद्ध टेस्टिंग करना ही एकमात्र दवा है। उन्होंने खुलासा किया कि 2986 पाॅजिटिव मामलों में से 2282 मरीज ठीक हो गए हैं जबकि 532 को एकांतवास सुविधा में रखा गया और सिर्फ 9 उच्च निर्भरता ईकाईयों और 2 मरीज वैंटीलैंटर पर हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही पठानकोट और गुरदासपुर में टैस्टों की सुविधा शुरू की जा रही है जिससे इन शहरों के लोगों को टैस्ट करवाने के लिए अमृतसर न जाना पड़े। उन्होंने कहा कि महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग ओर मैडीकल स्टाफ का प्रशिक्षण पूरा करवाने की तैयारी में है।
एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि ऐसी स्थिति पैदा नहीं होगी जहाँ राज्य के स्वास्थ्य ढांचे पर बोझ पड़े। उन्होंने कहा कि पहले ही राज्य सरकार द्वारा साँस की तकलीफ वाले मरीजों और कम लक्षणों वाले मरीजों को घरेलू एकांतवास में रखने का फैसला किया गया जिससे स्वास्थ्य व्यवस्था पर बड़ा बोझ न पड़े।
एक सवाल के जवाब में कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि सभी डिप्टी कमीश्नरों को निर्देश दिए गए हैं कि सभी मीट की दुकानों की चैकिंग की जाये जिससे यह यकीनी बनाया जा सके कि वह बेचते समय सभी प्रोटोकाॅलों का पालन कर रहे हैं।
उन्होंने एक सवाल करने वाले को स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए हफ्ते के अंतिम वाले दिनों और सरकारी छुट्टी के लाॅकडाउन में होम डिलिवरी की सुविधा होगी जिस बारे डिप्टी कमिश्नर हिदायतें जारी कर देंगे। औद्योगिक गतिविधियों पर कोई पाबंदी नहीं होगी जबकि विवाह, संस्कार / भोग समागमों की केंद्र सरकार की हिदायतों के अनुसार सीमित संख्या के साथ आज्ञा होगी।
मुख्यमंत्री ने आगे स्पष्ट किया कि राज्य में फिल्मों की शूटिंग करने की इजाजत है जिस सम्बन्धी डिप्टी कमीश्नरों को हिदायतें जारी कर दी गई हैं।
ओट क्लीनिकों में दवाओं की कमी बारे पूछे सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा अतिरिक्त दवाओं को उन केन्द्रों में भेजने के पहले ही हुक्म कर दिए हैं जहाँ जरूरत हो।
एक लिखित अनुरोध पढ़ने के बाद मुख्यमंत्री ने डिप्टी कमिश्नर लुधियाना को उस बुजुर्ग महिला की मदद करने के निर्देश दिए जो अपने पुत्र की मौत के बाद 11 साल के पोते के साथ किराये के घर में रह रही है। उन्होंने कहा कि उस महिला का अगले साल तक पूरे किराये का भुगतान किया जाये और टी.बी. के इलाज का पूरा खर्चा उठाया जाये।
लाॅकडाउन में ट्रैफिक के उल्लंघन बारे मुख्यमंत्री ने बताया कि 81000 में से 41000 पंजाब पुलिस बल कोविड की ड्यूटी पर तैनात हैं और किसी को भी सड़क पर नियम तोड़ने की आज्ञा नहीं दी जायेगी। उन्होंने चेतावनी दी कि उल्लंघन करने वालों को जुर्माना किया जायेगा और कानून के अंतर्गत कार्यवाही होगी।


 #भारत_मीडिया पेज को लाइक करना न भूलें, पूरी खबर लिंक पर क्लिक कर अवश्य पढ़ें 🙏  : 

.

No comments

Note: Only a member of this blog may post a comment.