असदुद्दीन ओवैसी की सभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाली अमूल्या को जमानत- #भारत_मीडिया #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Friday, June 12, 2020

असदुद्दीन ओवैसी की सभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाली अमूल्या को जमानत- #भारत_मीडिया #Bharat_Media

अमूल्या को कोर्ट ने दी जमानत
एआईएमआईएम प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी के मंच से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाली अमूल्या लियोन को जमानत मिल गयी है. बेंगलुरु की एक अदालत ने उसे जमानत दी है. 20 फरवरी को उसे सीएए-एनआरसी विरोध रैली में नारा लगाने पर देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.गुरुवार को पहले अमुल्या की जमानत याचिका को सेशन कोर्ट ने खारिज कर दी थी.

इसके बाद मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उसे 'डिफॉल्ट जमानत' दे दी. टाइम्स नाऊ के मुताबिक, बेंगलुरु पुलिस को अमूल्या की गिरफ्तारी के 90 दिनों के भीतर चार्जशीट दाखिल करनी थी. लेकिन पुलिस 20 मई तक चार्जशीट दाखिल नहीं कर पायी. ऐसे में मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उसे 'डिफॉल्ट जमानत' दे दी. मजिस्ट्रेट कोर्ट ने कहा कि जांच पूरी नहीं हुई है और जांच अधिकारी ने अभी तक आरोप-पत्र दाखिल नहीं किया है.

ससे पहले सेशन कोर्ट का कहना था कि अगर याचिकाकर्ता को जमानत पर रिहा कर दिया जाता है तो वह फरार हो सकती है या इस तरह के अपराध में संलिप्त हो सकती है, जिससे शांति व्यवस्था भंग होगी. बता दें कि 19 मई को हाई कोर्ट ने अमूल्या को जमानत नहीं दी थी.

बता दें कि अमूल्या ने 'हिंदू-मुस्लिम सिख ईसाई फेडरशन' की रैली में 20 फरवरी को सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए थे. अमूल्या जब ये नारे लगा रही थी तब मंच पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी मौजूद थे. ओवैसी ने अमूल्या को नारे लगाने से रोकने की भी कोशिश की थी.

इस नाटकीय घटना के चलते ओवैसी और रैली के आयोजकों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था.तब कर्नाटक पुलिस ने छात्रा को गिरफ्तार करने के बाद यहां मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया था, जिन्होंने उसे राजद्रोह के आरोप में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.



 #भारत_मीडिया पेज को लाइक करना न भूलें, पूरी खबर लिंक पर क्लिक कर अवश्य पढ़ें 🙏  : 

.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें