बिहार : पप्पू यादव ने जेसीबी पर सवार होकर चीनी कंपनियों के विज्ञापनों पर कालिख पोती- #भारत_मीडिया #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Thursday, June 18, 2020

बिहार : पप्पू यादव ने जेसीबी पर सवार होकर चीनी कंपनियों के विज्ञापनों पर कालिख पोती- #भारत_मीडिया #Bharat_Media

Bihar: Pappu Yadav riding on JCB, soot granddaughter on advertisements of Chinese companies - Patna News in Hindi
पटना। जन अधिकार पार्टी (जाप) के अध्यक्ष पप्पू यादव गुरुवार को अपने समर्थकों के साथ पटना की सडकों पर उतरे और चीनी समानों का विरोध करने की अपील की। साथ ही उन्होंने चीनी कंपनियों के विज्ञापन पर कालिख लगाकर उसे हटाने की मांग की। जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव कोतवाली चौक पहुंचे और वहां अपने समर्थकों के साथ चीन कंपनियों के लगे विज्ञापनों पर कालिख लगाई। इस दौरान उंचे विज्ञापन होर्डिंग तक पहुंचने के लिए जेसीबी की मदद ली गई।

इस दौरान पप्पू यादव ने लद्दाख की गलवान घाटी पर चीनी सैनिक के साथ झड़प में बिहार के शहीद हुए सभी जवानों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये आर्थिक मदद देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि चीन को पीछे धकेलने के लिए उसको आर्थिक रूप से तोड़ना आवश्यक है।

इससे पहले बुधवार को पप्पू यादव पटना की कई दुकानों पर पहुंचे और चाइनीज सामान ना बेचने की अपील की। पूर्वी लद्दाख में सोमवार रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए। इस घटना पर पप्पू यादव ने कहा कि चीन हमारे पैसों से ही हमें ही मार रहा है। पहले चीन ने कोरोना वायरस फैलाया,अब सीमा पर हमारे सैनिकों को नुकसान पहुंचा रहा है। इसमें बिहार के पांच जवान शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि भारत में चीनी सामान काफी संख्या में बेची जाती है और एक बड़ा व्यापार भारत के साथ होता है। पप्पू यादव ने सरकार से निवेदन किया की जल्द से जल्द अब समय आ गया है कि चीनी सामानों का बहिष्कार होना चाहिए। यह शुभ कार्य बिहार से हो शुरू हो रहा है।

--आईएएनएस



 #भारत_मीडिया पेज को लाइक करना न भूलें, पूरी खबर लिंक पर क्लिक कर अवश्य पढ़ें 🙏  : 

.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें