जब से मोदी सरकार आई पड़ोसी देशों से हमारे रिश्ते खराब हुए : अशोक गहलोत - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Friday, June 26, 2020

जब से मोदी सरकार आई पड़ोसी देशों से हमारे रिश्ते खराब हुए : अशोक गहलोत


जयपुर : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की विदेशी नीति पर सवाल खड़ा करते हुए शुक्रवार को कहा कि जब से यह सरकार सत्ता में आई है पड़ोसी देशों के साथ हमारे संबंध खराब हुए हैं। गहलोत ने कहा, 'जब से राजग की यह सरकार आई है तब से देख रहे हैं कि हमारे पड़ोसी देशों के साथ संबंध बिगड़ते गए।'

गहलोत ने हैशटैग 'स्पीक अप फोर आवर जवांस' के साथ एक वीडियो संदेश ट्वीटर पर शेयर किया है। इसमें उन्होंने कहा है, 'जब से राजग की यह सरकार आई है तब से देख रहे हैं कि हमारे पड़ोसी देशों के साथ संबंध बिगड़ते गए। उन्होने कहा कि जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने तो दक्षिण एशिया के तमाम पड़ोसी देशों के राष्ट्रपतियों को बुलाया गया था और वे आए भी थे। क्या कारण है कि आज तमाम पड़ोसी देश हमारे खिलाफ हो गए चाहे वह पाकिस्तान हो, नेपाल हो या श्रीलंका हो।'

गहलोत के अनुसार, 'चीन की बात अब हमारे सामने है। अभी तक यह रहस्य बना हुआ है कि चीन के साथ आखिर हुआ क्या है। प्रधानमंत्री मोदी को देशवासियों को विश्वास में लेना चाहिए था। परंतु दुर्भाग्य है जो तथ्य पेश किए देश के सामने उसका स्वागत चीन में हो रहा है। मोदी हमारे प्रधानमंत्री हैं लेकिन उनके बयानों का स्वागत चीन की मीडिया व वहां के लोग कर रहे हैं तो आप समझ सकते हैं कि कितनी बड़ी चूक है।'

उन्होंने कहा है, 'आज देश जिस दशा से गुजर रहा है उसे लेकर देशवासी बहुत चिंतित हैं, केंद्र सरकार की तरफ से कोई जवाब आ नहीं रहे हैं। चीन को लेकर बहुत आक्रोश है। आज नहीं तो कल प्रधानमंत्री को देशवासियों को हकीकत बतानी पड़ेगी कि वास्तव में वहां पर हुआ क्या है, उसे छिपाने से काम नहीं चलेगा।'.



 #भारत_मीडिया पेज को लाइक करना न भूलें, पूरी खबर लिंक पर क्लिक कर अवश्य पढ़ें 🙏  : 

.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें