कुवैत में रहने और खाने की परेशानियों से जूझकर कामगार मजदूर लौटे अपने वतन - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Monday, June 8, 2020

कुवैत में रहने और खाने की परेशानियों से जूझकर कामगार मजदूर लौटे अपने वतन

Suffering from the problems of living and eating in Kuwait Worker laborers returned to their homeland - Jaipur News in Hindi
जयपुर। कोरोना वैश्विक महामारी ने देश-विदेश में समाज के हर तबके को प्रभावित किया है। लेकिन इस महामारी का सबसे ज्यादा बुरा असर उन कामगार मजदूरों पर पड़ा है जो अपना घर और गांव छोड़कर देश के विभिन्न शहरों में तथा विदेशों में रोटी- रोजी कमाने गए थे और जो मजदूरी करके ही अपने घर परिवार का पालन पोषण करते थे। कोरोना की वजह से अपनी रोटी रोजी खो चुके कुवैत से शनिवार रात को दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे 75 प्रवासी राजस्थानी कामगार मजदूरों की दुखद कहानी भी कुछ कम नहीं है। कामगार मजदूरों के दल में शामिल चूरू के कैलाश सारण ने बताया कि वह अपने परिवार को छोड़कर एक वर्ष पहले कुवैत गए थे वहां एक कंपनी में जाकर मजदूरी करने लगे लेकिन 3 महीने पहले कोरोना महामारी के चलते कंपनी में काम बंद हो गया तथा पूरा वेतन भी नहीं मिला, लेकिन पहले से उनके दो भाई भी वहीं पर दूसरी जगह मजदूरी कर रहे थे तो किसी तरह से मिलकर रहने और खाने की व्यवस्था की, लेकिन अब हमारे पास घर वापस लौटने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। मजदूरों में शामिल प्रतापगढ़ के राजमल चौधरी ने बताया कि गांव में अपने बच्चों को छोड़कर 6 महीने पहले मैं कुवैत काम की तलाश में गया था लेकिन पिछले 2 महीने से काम बंद हो गया तथा इतनी कमाई भी नहीं की जिससे वहां रहने और खाने की व्यवस्था की जा सके इसी बीच प्रतापगढ़ में मेरी अम्मी की मौत हो गई तथा घर में अकेला होने के कारण मुझे वापस लौटना पड़ा है अब हमारे पास दिल्ली में खुद के पैसों से क्वॉरेंटाइन में रहने की सामर्थ नहीं है इसलिए राजस्थान सरकार ने हमें बसों से अपने शहरों तक पहुंचाने में मदद की है, इसके लिए हम मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दिल से धन्यवाद करना चाहते हैं कि उन्होंने हमारी पीड़ा को समझा और कुवैत से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचने के बाद हमारी मांग के अनुसार हमें गृह राज्य पहुंचाया जा रहा है।

दिल्ली में प्रवासियों को सुरक्षित अपने घर तक पहुंचाने के लिए व्यवस्थाएं देख रहे राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश अनुसार राजस्थान सरकार अपने हर नागरिक के जान-मल की हिफाजत के लिए वचनबद्ध है चाहे वे देश के किसी हिस्से में हो या विदेश के किसी कोने दोहा ,कतर, कुवैत , रूस, यूक्रेन में हो। राज्य सरकार ने कोरोना महामारी की वजहें से फंसे हुए प्रवासी राजस्थानियों को सुरक्षित रखने और उनकी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए पूरी तत्परता से काम किया है। मुख्यमंत्री के आदेशों की अनुपालना में आज भी हमने उसी भावना के साथ काम किया। आज रात कुवैत से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे 75 प्रवासी राजस्थानी मजदूर , जिनके पास दिल्ली में क्वॉरेंटाइन में रहने के लिए पैसे नहीं थे क्योंकि वहां पर करीब 3 महीने से इनका काम बंद था वे वहां खाने और रहने की काफी दिक्कतों का सामना करके अपने वतन पहुंचे थे जब इन्होंने हमें अपनी मजबूरियां बताया तो हमने इन सभी 75 लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए सरकार के सहयोग से रात्रि में ही बसें हायर करके जयपुर और उदयपुर के लिए रवाना किया। वहां इन्हें सरकार की तरफ से सात दिन इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन सेंटरों में रखा जाएगा और बाद में होम क्वॉरेंटाइन के लिए अपने-अपने घर भेज दिए जाएंगे

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें