वन बंधु कल्याण योजना से कोटड़ा के किसान बने खुशहाल, कैसे, यहां पढ़ें - #भारत_मीडिया - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Saturday, June 6, 2020

वन बंधु कल्याण योजना से कोटड़ा के किसान बने खुशहाल, कैसे, यहां पढ़ें - #भारत_मीडिया

The farmers of Kotra became prosperous with Van Bandhu Kalyan Yojana - Jaipur News in Hindi
जयपुर । केन्द्र सरकार की सहायता से उद्यान विभाग की ओर उदयपुर जिले के कोटड़ा में चलाई जा रही वन बंधु कल्याण योजना वहाँ के जनजातीय किसानों के जीवन में खुशहाली लाई है और उनके कदम धीरे-धीरे आत्मनिर्भरता की तरफ बढ़ रहे हैं। उदयपुर से 125 किलोमीटर दूर कोटड़़ा का पहाड़ी इलाका इस योजना की बदौलत अब हरा-भरा नजर आता है।
कुछ साल पहले यह इलाका बंजर दिखाई देता था। कुछ मेहनतकश किसान बरसात के मौसम में केवल उड़द या अरहर की फसल बोते थे। फसल की उत्पादकता पूरी तरह बारिश पर निर्भर करती थी। कम उत्पादन के कारण किसानों की आमदनी भी कम थी। मजबूरन उन्हें अपनी आजीविका के लिए गुजरात और अन्य राज्यों में पलायन करना पड़ता था।
लेकिन वक्त बदलते देर नहीं लगती। केंद्र प्रवर्तित वन बंधु कल्याण योजना ने कोटड़ा क्षेत्र के किसानों की तकदीर बदल दी है। योजना के तहत उदयपुर के उधान विभाग ने कोटड़ा के लगभग 125 किसानों के खेतों में मिनी स्प्रिंकलर लगाए हैं। इससे पानी की समस्या का निदान हो गया है। इन किसानों को केंद्र और राज्य के कृषि अनुसंधान संस्थानों की ओर से प्रशिक्षण भी दिया गया है जिससे उनके तकनीकी ज्ञान में इजाफा हुआ है। इसकी झलक किसानों की ओर से मिनी स्प्रिंकलर की मदद से की जा रही हाईटेक बागवानी में देखने को मिलती है। यही नहीं, कोटड़ा के किसानों ने शेडनेट नर्सरी लगाने में भी महारत हासिल कर ली है।
वन बंधु कल्याण योजना के प्रभारी अधिकारी डॉ देवेन्द्र प्रताप सिंह का मार्ग दर्शन और किसानों की कड़़ी मेहनत रंग लाई है। कोटड़ा क्षेत्र के ये किसान अपने खेतों में तरह-तरह की सब्जियाँ और फलदार पौधे लगाकर उनसे अच्छी उपज प्राप्त कर रहे हैं। अच्छी उपज यानि अच्छी आमदनी। कभी पलायन को मजबूर यह किसान अब आधुनिक कृषि तकनीक और नवीनतम जानकारी के बूते पर अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करते हुए आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहे हैं।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें