राजस्थान के राज्यपाल बोले- संविधान मेरे लिए सर्वोच्च, कहीं कोई दबाव नहीं #भारत_मीडिया, #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Thursday, July 30, 2020

राजस्थान के राज्यपाल बोले- संविधान मेरे लिए सर्वोच्च, कहीं कोई दबाव नहीं #भारत_मीडिया, #Bharat_Media

rajasthan governor kalraj mishra  file pic
राजस्थान में जारी सियासी उठापटक और विधानसभा सत्र बुलाने में देरी को लेकर गहलोत सरकार की तरफ से आलोचनाओं के बाद राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि उनके लिए संविधान सर्वोच्च है। उन्होंने कहा कि उनके ऊपर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है।

14 अगस्त से विधानसभा सत्र शुरू करने की मंजूरी देने वाले कलराज मिश्र ने गहलोत सरकार से कहा कि उसे कोरोना वायरस की चुनौतियों से निपटने के लिए सभी संभावित कदमों को उठना चाहिए और काम में तेजी लाना चाहिए।

गौरतलब है कि विधानसभा सत्र बुलाने को लेकर अशोक गहलोत सरकार और राज्यपाल में ठनी हुई थी। एक तरफ अशोक गहलोत जहां जल्द से जल्द सत्र बुलाना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने पहले 27 जुलाई और उसके बाद 31 जुलाई से सत्र शुरू करने के लिए तीन बार अनुरोध भेजा था।

लेकिन, राजभवन से कुछ बिंदुओं से साथ 21 दिनों के अनिवार्य नोटिस की शर्त रखकर उसे लौटा दिया गया था। कांग्रेस पार्टी की तरफ से इसको लेकर लगातार राज्यपाल पर हमला बोला जा रहा था। पार्टी के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने तो राज्यपाल पर यहां तक आरोप लगा दिया था कि वे केन्द्र में ‘मास्टर’ की आवाज पर काम कर रहे हैं।

राज्य के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट और अन्य 18 विधायकों के बागी होने के बाद राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार संकट के दौर से गुजर रही है। ऐसे में गहलोत चाहते हैं कि विधानसभा सत्र में अपने बहुमत साबित कर दें, ताकि आगे कामकाज सुचारू तौर पर चल सके।

हालांकि, सचिन पालयट कैंप की तरफ से यह दावा किया जा रहा है कि अगर गहलोत विधायकों को होटल से फ्री करते हैं तो 10-15 विधायक उनके खेमे में आ जाएंगे।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें