एक्शन में योगी सरकार की पुलिस, जानिए यूपी में तीन साल में हुए कितने एनकाउंटर #भारत_मीडिया, #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Wednesday, July 15, 2020

एक्शन में योगी सरकार की पुलिस, जानिए यूपी में तीन साल में हुए कितने एनकाउंटर #भारत_मीडिया, #Bharat_Media

उत्तर प्रदेश में तीन साल में मुठभेड में मारे गये 122 अपराधी, 13 पुलिसकर्मी भी शहीद हुए
लखनऊ : उत्तर प्रदेश में पिछले करीब तीन साल के दौरान पुलिस मुठभेड़ में 122 अपराधी मारे गये हैं. जबकि, 13 पुलिसकर्मी शहीद हुए हैं. अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने पीटीआई भाषा को बताया कि 20 मार्च 2017 से 10 जुलाई 2020 के बीच 6,126 मुठभेड़ों में पुलिस ने 122 अपराधियों को मार गिराया. जबकि, इनमें 13 पुलिसकर्मी शहीद हुए हैं. कुमार ने बताया कि कुल 13, 361 अपराधी गिरफ्तार हुए, जबकि 2,296 अपराधी मुठभेड़ों में जख्मी हुए.

इन मुठभेड़ों में 909 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. कानपुर में दो-तीन जुलाई की दरमियानी रात कुख्यात अपराधी विकास दुबे के यहां दबिश देने गये पुलिस दल पर घात लगाकर किये गये हमले में आठ पुलिसकर्मी मारे गए गये थे. कुमार ने बताया कि कानपुर हमले में 21 नामजद आरोपी थे, जिनमें से दुबे सहित छह को पुलिस ने मार गिराया जबकि चार को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है.

उन्होंने कहा कि बाकी 11 आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है. दुबे को पुलिस ने दस जुलाई को मार गिराया था. पुलिस दल उसे मध्य प्रदेश के उज्जैन से कानपुर लेकर आ रहा था. पुलिस का दावा है कि कानपुर के निकट रास्ते में विकास दुबे को लेकर आ रही कार बारिश के बाद सड़क पर फिसलन के कारण अचानक पलट गयी. एसटीएफ का बयान कहता है कि कार चालक ने सड़क पर चल रहे मवेशियों को बचाने की कोशिश की थी.

कुमार ने बताया कि राज्य में एक जनवरी 2020 से 15 जून 2020 के बीच लूट की 579 वारदात हुईं जो 2019 की समान अवधि के मुकाबले 44.17 फीसदी कम है. समीक्षाधीन अवधि में डकैती की 33 वारदात हुई जो 2019 की समान अवधि के मुकाबले 37.74 फीसदी कम है. उन्होंने बताया कि इस साल दहेज हत्या के 1,019 और बलात्कार के 913 मामले सामने आये जो ऐसे मामलों में क्रमश: 6.34 प्रतिशत और 25.41 प्रतिशत की कमी दर्शाते हैं.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें