गुना मामला : दंपति किसान बेटा बोला- इस वजह से खाया था मेरे माता-पिता ने जहर, अधिकारियों ने नहीं मानी थी ये बात #भारत_मीडिया, #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Thursday, July 16, 2020

गुना मामला : दंपति किसान बेटा बोला- इस वजह से खाया था मेरे माता-पिता ने जहर, अधिकारियों ने नहीं मानी थी ये बात #भारत_मीडिया, #Bharat_Media

Guna incident: After Mayawati, Rahul, Kamal Nath attacked Shivraj government, said this big thing - Guna News in Hindi
गुना। मध्य प्रदेश ने गुना में एक दंपति किसान के ज़हर खा लेने के मामले पर उनके बेटे ने बताया, उस दिन 150 के करीब अधिकारी आए थे। मेरे माता-पिता ने उनसे विनती की कि ये फसल काटने के बाद कार्रवाई की जाए पर वो नहीं माने। मजबूर होकर मेरे माता-पिता ने ज़हर खा लिया। ऐसे में वो लोग बोले मरने दो इन्हें।

जांच के लिए बनाई सात सदस्यीय समिति

मध्य प्रदेश के गुना जिले में एक दलित परिवार के सदस्यों की पिटाई के मामले की जांच के लिए कांग्रेस ने जांच समिति बनाई है। यह समिति शुक्रवार को गुना जाएगी और अपनी रिपोर्ट प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ को सौंपेगी। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमल नाथ ने गुना मे दलित किसान परिवार के साथ पुलिस दुर्व्यवहार की घटना की निंदा की है। साथ ही घटना की जांच के लिए सात सदस्यीय समिति बनाई है।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा के अनुसार, इस समिति में पूर्व मंत्री बाला बच्चन, रामनिवास रावत, जयवर्धन सिंह, पूर्व विधायक फूल सिह बरैया, कार्यवाहक प्रदेशाध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी, विधायक हीरा लाल अलावा और प्रदेश प्रवक्ता विभा पटेल को सदस्य बनाया गया है।

सलूजा के अनुसार, यह समिति 17 जुलाई को गुना पहुंचकर पूरे मामले की जांच करेगी और प्रदेशाध्यक्ष केा अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। ज्ञात हो कि गुना के केंट इलाके में एक महाविद्यालय की जमीन पर कब्जा कर खेती किए जाने को लेकर प्रशासन और पुलिस ने दलित परिवार पर बर्बरतापूर्ण कार्रवाई की थी। इसी दौरान दलित दंपति ने कीटनाशक पी लिया था। इस मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और सियासत गर्मा गई। इस मामले में सरकार ने ग्वालियर क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राजाबाबू सिंह, पुलिस अधीक्षक और जिलाधिकरी को हटा दिया गया है।

शिवराज सरकार 'सौदे की सरकार' है जो घटना घटी वह दुखद : कमलनाथ

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा, बड़े दुख की बात है कि आज मध्यप्रदेश की पहचान दलितों पर अत्याचार से होने लगी है। ये सरकार 'सौदे की सरकार' है जो घटना घटी वह बहुत दुखद है, इस सरकार को इसकी कोई चिंता नहीं है।

राहुल का भाजपा सरकार पर हमला, कहा- हमारी लड़ाई इस विचारधारा और अन्याय के खिलाफ

पूर्व कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने गुरुवार को गुना जिले में मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा एक दलित परिवार की पिटाई को लेकर भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि हमारी लड़ाई अन्याय के खिलाफ है। पुलिस द्वारा दलित परिवार की पिटाई किए जाने के वीडियो के साथ राहुल गांधी ने एक ट्वीट करते हुए कहा, हमारी लड़ाई इस विचारधारा और अन्याय के खिलाफ है।

मायावती का शिवराज सरकार पर हमला, कही ये बड़ी बात

मध्य प्रदेश के गुना में अनुसूचित जाति वर्ग के एक किसान परिवार पर पुलिस की कार्रवाई को लेकर बसपा सुप्रिमों मायावती ने निशाना साधा है। मायावती ने कहा है कि एक तरफ भाजपा सरकार दलितों को बसाने का ढिंढोरा पीटती है वहीं, दूसरी तरफ उनको उजाड़ने की घटनाएं उसी तरह से आम हैं।

दलित परिवार के सदस्यों की पिटाई को लेकर सियासत को गर्म

मध्य प्रदेश के गुना जिले में एक दलित परिवार के सदस्यों की पिटाई के मामले ने राज्य की सियासत को गर्मा दिया है। कांग्रेस हमलावर हो गई और राज्य में शिवराज सरकार के वापसी पर दलित और गरीबों पर अत्याचार होने के आरोप लगा रही है, वहीं सरकार ने ग्वालियर क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, गुना के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को हटा दिया है।

गुना के कैंट इलाके में एक महाविद्यालय की जमीन पर कब्जा कर खेती किए जाने को लेकर प्रशासन और पुलिस ने दलित परिवार पर बर्बरतापूर्ण कार्रवाई की थी। इसी दौरान दलित दंपत्ति ने कीटनाशक पी लिया था। इस मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और इसके सहारे कांग्रेस ने भाजपा की प्रदेश सरकार को घेरा। मामले सियासी रंग लेने लगा और कांग्रेस ने जमकर हमला बोला। सरकार भी हरकत में आई और प्रशासनिक अमले पर कार्रवाई भी की और जांच के आदेश दिए। 

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें