मोदी सरकार के एक कदम से छूटे चीन के पसीने, ड्रैगन को अरबों का नुकसान - #भारत_मीडिया #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Wednesday, July 1, 2020

मोदी सरकार के एक कदम से छूटे चीन के पसीने, ड्रैगन को अरबों का नुकसान - #भारत_मीडिया #Bharat_Media

बीते कुछ महीनों में अपनी हरकतों के चलते दुनिया के कई प्रमुख देशों की आंखों में खटकने वाले चीन को अब एक और करारा झटका लगा है। मोदी सरकार के फैसले की वजह से चीन के पसीने छूटने लगे हैं। दरअसल, सरकार ने जिन 59 ऐप्स को प्रतिबंधित किया था, उसकी वजह से चीन को अब अरबों रुपये का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

चीन का मानना है कि महज टिकटॉक के बैन होने से ही छह बिलियन डॉलर से अधिक का नुकसान होने वाला है। ऐसे में संभव है कि चीन अगले किसी भी विवाद को खड़ा करने से पहले कई बार सोचे। चीन सरकार के मुखपत्र 'ग्लोबल टाइम्स' ने टिकटॉक के बैन होने से कंपनी को होने वाले नुकसान को लेकर ट्वीट किया है।

'ग्लोबल टाइम्स' ने ट्वीट किया, 'चीनी इंटरनेट कंपनी बाइटडांस- जोकि टिकटॉक की पैरेंट कंपनी है, उसे भारत-चीन सीमा पर जारी तनाव के बाद भारत सरकार द्वारा बैन किए जाने की वजह से 6 बिलियन डॉलर का नुकसान हो सकता है। यह जानकारी ग्लोबल टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से दी है।

बैन होने से पहले टिकटॉक भारत में काफी मशहूर वीडियो ऐप थी। इस ऐप के करीब 20 करोड़ यूजर्स थे, जो ऐप पर शॉर्ट वीडियोज अपलोड करते थे। केंद्र सरकार ने बीते दिनों इस ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके अलावा हेलो, यूसी न्यूज, यूसी ब्राउजर समेत 58 और चीनी ऐप को बैन कर दिया था। 

चीनी ऐप पर बैन लगाए जाने के बाद भारत को अमेरिका का भी साथ मिला है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने बुधवार को कहा कि चीनी ऐप के बैन का भारत का जो फैसला है, उससे देश की संप्रभुता को बढ़ाने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही भारत की अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा में भी इजाफा होगा। इसके अलावा भी अमेरिका लगातार अन्य मुद्दों पर चीन को घेरता आया है।

सीमा विवाद के बीच चीन की 59 ऐप हुईं बैन

भारत और चीन के बीच बीते मई की शुरुआत से ही एलएसी पर सीमा विवाद को तनाव चल रहा है। यह तनाव पिछले महीने 15 जून को तब और बढ़ गया, जब पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे, तो वहीं चीन के कमांडर समेत 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। दोनों देशों के बीच उपजे तनाव को कम करने के लिए दोनों देश के शीर्ष सैन्य अधिकारी कई बार बैठक कर चुके हैं, लेकिन चीन के धोखेबाजी के चलते अभी तक पूरी तरह से सफलता नहीं मिली है।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें