नोएडा में कोरोना मरीजों के ठीक होने की दर 86.2 फीसदी - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Saturday, August 15, 2020

नोएडा में कोरोना मरीजों के ठीक होने की दर 86.2 फीसदी

Corona patients recovering 86.2 percent in Noida - Noida News in Hindi
गौतमबुद्धनगर (उप्र)। गौतमबुद्धनगर में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के 72 नए मामले सामने आए हैं। लेकिन जिले में राहत की खबर ये है कि जिले में मृत्युदर 1 फीसद से भी कम है। जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान द्वारा राज्य रिपोर्ट साझा की गई, जिसके अनुसार, पिछले 24 घंटों में 72 नए संक्रमित मरीज के मामले सामने आए तो वहीं 70 मरीज स्वस्थ भी हुए।

जिले में अब तक कुल 5433 मरीज डिस्चार्ज किए गए हैं। यानी की जिले में मरीजों के सही होने की दर 86.2 फीसदी है। वहीं 826 मरीजों का इलाज जिले के अलग-अलग कोविड अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

जिले में 1 अगस्त को आखिरी कोरोना संक्रमण से मृत्यु दर्ज हुई थी, जिसके बाद से अब तक जिले में एक भी मृत्यु दर्ज नहीं हुई है। अधिकारी आंकड़ों के अनुसार, जिले में मृत्युदर 0.7 फीसद है। जिले में कोरोना से अब तक 43 मौतें हुई हैं।

शुक्रवार को जिला प्रशासन के दिशानिर्देशों के अनुपालन में नोएडा के 5 क्षेत्रों में रैपिड एंटीजन मेडिकल टेस्टिंग की गई। जिले में विभिन्न स्थानों पर लगाए गए कैम्प में कुल 1355 लोगों का रैपिड एंटीजन जांच हुई, इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह से पालन किया गया। इसमे राहत की बात यह रही कि 1355 लोगों में से कुल 39 लोग ही कोरोना संक्रमित पाए गए।

यदि टीम के सदस्यों को किसी घर में रोगी मिलता है, तो उन रोगियों की पल्स ऑक्सीमीटर से जांच कराई जाती है। इसके बाद इसकी सूचना तत्काल पर्यवेक्षक के माध्यम से प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को दी जाती है। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी के द्वारा तत्काल एंबुलेंस के माध्यम से ऐसे रोगियों को डेडिकेटेड क्वारंटाइन इकाई में भर्ती कराया जाता है। (आईएएनएस)




भारत मीडिया के संचालन व् इस साहसी पत्रकारिता को आर्थिक रूप से सपोर्ट करें, ताकि हम स्वतंत्र व निष्पक्ष पत्रकारिता करते रहें .
👉 अगर आप सहयोग करने को इच्छुक हैं तो भारत मीडिया द्वारा दिए इस लिंक पर क्लिक करें -------
cLICK HERE
     

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें