बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए जयपुर, कोटा और अजमेर में एनडीआरएफ की तैनाती #Bharat_Media - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Tuesday, August 18, 2020

बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए जयपुर, कोटा और अजमेर में एनडीआरएफ की तैनाती #Bharat_Media

Deployment of NDRF in Jaipur, Kota and Ajmer to deal with flood situation - Jaipur News in Hindi
जयपुर । मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश में मानसून को देखते हुए अत्यधिक वर्षा एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए सभी तैयारियां रखी जाएं। उन्होंने जयपुर, कोटा एवं अजमेर में विशेष एहतियात बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी जिला कलक्टर्स को राहत एवं बचाव कार्यों के लिए तैयारी रखने को कहा।
गहलोत ने आन्ध्र प्रदेश की तर्ज पर कैचमेन्ट एरिया में छोटे-छोटे बांध बनाने की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए।
बैठक में अधिकारियों ने बताया कि जयपुर शहर में जैसी जलभराव की स्थिति हुई थी, वैसी प्रदेश में टोंक को छोड़कर अन्य शहरों में नहीं है। बाढ़ एवं आपदा की स्थिति से निपटने के लिए जयपुर में केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष तथा प्रदेश के सभी जिलों में भी बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं। बाढ़ प्रबंधन के लिए सभी जिलों में फ्लड कंटीन्जेन्सी प्लान बनाया गया है। जयपुर, कोटा एवं अजमेर में एनडीआरएफ की तैनाती की गई है। प्रदेश के 20 जिलों में एसडीआरएफ तथा सभी जिलों में नागरिक सुरक्षा बचाव दलों की तैनाती की गई है। जिला कलक्टर्स को आवश्यकतानुसार नागरिक सुरक्षा स्वयं सेवकों की अतिरिक्त तैनाती करने के लिए अधिकृत किया गया है। सेना से भी समन्वय स्थापित किया जा रहा है। आपदा प्रबंधन सचिव ने बताया कि मौसम विभाग से प्राप्त चेतावनी एवं सूचना सभी जिला कलेक्टर्स को नियमित रूप से प्रेषित की जा रही है। बाढ़ बचाव एवं राहत कार्यों के लिए जिलों को उनकी मांग के अनुसार राशि का आवंटन किया जा रहा है।
बैठक में कोविड-19 महामारी की रोकथाम एवं बचाव के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत 15 मार्च के बाद लगातार जारी किए गए विभिन्न आदेशों का कार्योत्तर अनुमोदन भी किया गया। कोविड-19 की रोकथाम एवं बचाव के लिए एसडीआरएफ से विभिन्न विभागों एवं जिलों को आवंटित राशि 386.85 करोड़ रूपए की राशि का अनुमोदन भी किया।
बैठक में बताया कि कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को मास्क एवं पीपीई किट खरीदने के लिए 2.10 करोड़ तथा टेस्टिंग किट के लिए 35 करोड़ रूपए की राशि आवंटित की गई। इसके अलावा चिकित्सा शिक्षा विभाग को वित्तीय वर्ष 2019-20 में लैब, वेंटिलेटर एवं अन्य उपकरणों की खरीद के लिए 62.15 करोड़ दिए गए। वर्ष 2020-21 में एसएमएस मेडिकल कॉलेज में लैब, वेंटिलेटर एवं अन्य उपकरणों के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग को 120 करोड़ रूपए, एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर एवं एस.एन. मेडिकल कॉलेज, जोधपुर में कोबास-8800 मशीन स्थापित करने के लिए 13 करोड़ रूपए तथा अतिरिक्त लैब एवं जांच उपकरणों के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग को 49.12 करोड़ रूपए की राशि आवंटित की गई।
कोविड-19 की रोकथाम एवं बचाव के लिए विभिन्न विभागों एवं जिलों को भी आवंटित राशि का अनुमोदन किया गया। इसमें बेघर एवं प्रवासी श्रमिकों के लिए राहत शिविर स्थापित करने एवं फूड पैकेट वितरण के लिए 98.38 करोड़ रूपए, अनटाइड फण्ड से जिला कलक्टर्स को 4.10 करोड़, मास्क, पीपीई किट एवं सेनेटाइजर आदि की खरीद के लिए राजस्थान पुलिस को 1.25 करोड़ तथा स्वायत्त शासन विभाग को 1.75 करोड़ रूपए की राशि का आवंटन किया गया। पीएम केयर फण्ड से प्रवासी श्रमिकों के कल्याण संबंधी गतिविधियों के लिए जिलों को आवंटित 35.70 करोड़ रूपए के बजट आवंटन को कार्याेत्तर अनुमोदन किया गया।

बैठक में मौसम केन्द्र जयपुर के निदेशक आर.एस. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अब तक औसत सामान्य वर्षा से 19 प्रतिशत कम वर्षा हुई है। चुरू एवं नागौर में सामान्य से अधिक वर्षा हुई है। आने वाले समय में प्रदेश में सामान्य बारिश रहने की संभावना है। अगले एक माह तक मानसून सक्रिय रहेगा। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने राज्य के प्रमुख बांधों में जल भराव की 16 अगस्त तक की स्थिति के बारे में प्रस्तुतीकरण दिया। उन्होंने बताया कि राज्य के 22 बड़े बांधों में अपनी भराव क्षमता का 57.12 प्रतिशत पानी उपलब्ध है। बीसलपुर में क्षमता का 56 प्रतिशत, राणा प्रताप सागर में 73 प्रतिशत जबकि जवाहर सागर में 80 प्रतिशत पानी आया है।

ये भी पढ़ें 




भारत मीडिया के संचालन व् इस साहसी पत्रकारिता को आर्थिक रूप से सपोर्ट करें, ताकि हम स्वतंत्र व निष्पक्ष पत्रकारिता करते रहें .
👉 अगर आप सहयोग करने को इच्छुक हैं तो भारत मीडिया द्वारा दिए इस लिंक पर क्लिक करें -------
cLICK HERE
     

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें