विकास दुबे केस : तीन थानों की पुलिस देती रही दबिश, जय के तीनों भाइयों ने कर दिया कोर्ट में सरेंडर #BHARAT_MEDIA - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Saturday, September 5, 2020

विकास दुबे केस : तीन थानों की पुलिस देती रही दबिश, जय के तीनों भाइयों ने कर दिया कोर्ट में सरेंडर #BHARAT_MEDIA

Vikas Dubey case Police of three police stations continue to dominate Jai  three brothers surrender in court - विकास दुबे केस : तीन थानों की पुलिस  देती रही दबिश, जय के तीनों
कुख्यात बदमाश विकास दुबे के करीबी जय बाजपेई के तीनों भाइयों 25 हजार के इनामी अजयकांत, रजयकांत और शोभित बाजपेई ने एडीजे -5 की कोर्ट में सरेंडर कर दिया। तीनों पहले से ही वकीलों के सम्पर्क में थे। दोपहर में उनके आत्मसमर्पण के लिए कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया गया। कोर्ट की मंजूरी के आधे घंटे बाद ही तीनों ने समर्पण कर दिया। तीनों के खिलाफ पुलिस ने गैंगस्टर एक्त के तहत कार्रवाई की है। तीनों की गिरफ्तारी पर डीआईजी ने 25-25 हजार रुपए का इनाम घोषित कर दिया था।

मंगलवार को पुलिस ने तीनों भाइयों के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई शुरू की थी। तीनों के घर के बाहर मुनादी बजवाने के साथ ही कुर्की की उद्घोषणा का नोटिस चस्पा किया गया था। इसके एक महीने में अगर तीनों हाजिर नहीं होते तब पुलिस कोर्ट से ऑर्डर लेकर उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई को अमल में लाती। अधिवक्ता देवेन्द्र द्विवेदी ने दोपहर लगभग 12:30 बजे कोर्ट में सरेंडर के लिए प्रार्थना पत्र दिया। कोर्ट की अनुमति मिलने के बाद तीनों आरोपी वकीलों के घेरे में दोपहर करीब एक बजे एडीजे-5 की कोर्ट पहुंचे। उन्हें देखने के लिए वहां पर लोगों की भीड़ लग गई। 

हमने कुछ नहीं किया हमें फंसाया गया है
तीनों भाइयों के चेहरे पर कोर्ट में प्रस्तुत होने के दौरान भी कोई शिकन नहीं थी। जय का छोटा भाई शोभित बाजपेई जब कोर्ट रूम से बाहर निकला तो चिल्लाने लगा। वह कह रहा था कि हम लोगों ने कुछ नहीं किया। हमारा किसी मामले से कुछ लेना देना नहीं। पुलिस ने हमें पूरे मामले में जबरदस्ती फंसाया है। सुनवाई पूरी होने के बाद पुलिस ने उन्हें पुलिस वैन में डाला और जेल के लिए रवाना हो गई। 

आर्थिक अपराधों में लिप्त रहे
बिकरू कांड के बाद जब विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ उसके बाद पुलिस ने जय बाजपेई को जेल भेजा था। उस पर घटना में विकास की मदद करने और उसे असलहा मुहैया कराने का आरोप है। इस कार्रवाई के बाद जब पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो पता चला कि चारों भाई गिरोहबंदी कर आर्थिक अपराधों में लिप्त रहे हैं और इससे करोड़ों की सम्पत्ति अर्जित की है। 




भारत मीडिया के संचालन व् इस साहसी पत्रकारिता को आर्थिक रूप से सपोर्ट करें, ताकि हम स्वतंत्र व निष्पक्ष पत्रकारिता करते रहें .
👉 अगर आप सहयोग करने को इच्छुक हैं तो भारत मीडिया द्वारा दिए इस लिंक पर क्लिक करें -------
cLICK HERE
     

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें