किसान आंदोलन पर कविता : क्या वो किसान थे.. - Bharat Media Digital Newspaper

Breaking

Monday, December 7, 2020

किसान आंदोलन पर कविता : क्या वो किसान थे..


.हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।
जीवन को सुलगाने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।

खेतों में जो श्रम का पानी देता है।
फसलों को जो खून की सानी देता है।
फसलों को आग लगाने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।
हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।

खुद भूखा रहकर जो औरों को भोजन देता है।
खुद को कष्ट में डाल दूसरों को जीवन देता है।
सड़कों पर दूध बहाने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।
हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।

कर्ज में डूबे उस किसान की क्या हिम्मत है।
घुट घुट कर मर जाना उसकी किस्मत है।
बच्चों पर पत्थर बरसाने
वाले ये किसान नहीं हो सकते।
हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।

राजनीति की चौपालों पर लाशें है।
इक्का बेगम और गुलाम की तांशें हैं।
लाशों के सौदागर दिखते
ये किसान नहीं हो सकते।
हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।

सीने पर जिसने गोली खाई निर्दोष था वो।
षडयंत्रो का शिकार जन आक्रोश था वो।
राजनीति के काले चेहरे
ये किसान नहीं हो सकते।
हिंसा को भड़काने वाले
ये किसान नहीं हो सकते।




भारत मीडिया के संचालन व् इस साहसी पत्रकारिता को आर्थिक रूप से सपोर्ट करें, ताकि हम स्वतंत्र व निष्पक्ष पत्रकारिता करते रहें .
👉 अगर आप सहयोग करने को इच्छुक हैं तो भारत मीडिया द्वारा दिए इस लिंक पर क्लिक करें -------
cLICK HERE
     

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

इस न्यूज़ पोर्टल पर किसी भी प्रकार की सामिग्री प्रकाशन का उद्देश्य किसी की छवि को धूमिल करना या किसी व्यक्ति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचना बिल्कुल नहीं है। इस पोर्टल पर प्रकाशित किसी भी चलचित्र, छायाचित्र अथवा लेख, समाचार से कोई आपत्ति है तो हमें दिए गए ईमेल पर लिख कर भेजें